भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ओ कान्हा मोरी भर दो गगरिया / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ओ कान्हा, मोरी भर दो गगरिया
भर दो भरा दो, सर पे धरा दो
ओ कान्हा, बतला दो डगरिया। ओ कान्हा...।
गोकुल नगर में लगी है बजरिया
ओ कान्हा, मोह ला दो चुनरिया। ओ कान्हा...।
कोई नगर से वैदा बुला दो
झड़वा दो अरे मोरी नजरिया। ओ कान्हा...।
मैं तो रंग गई, कान्हा रंग में
सूझे न मोहे, कोई डगरिया।