भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओ नारी, समता की सहपाठी हो तुम / पुरुषोत्तम सत्यप्रेमी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ नारी—
समता की सहपाठी हो तुम!
अनेक महान सम्बोधन दिये तुम्हें
पर दिया नहीं
तुम्हें निर्णय का अधिकार
तुम्हें रिश्ते-नातों श्रृंखला से जकड़ा—
शस्त्र और शास्त्र का भय दिखलाकर

जो पाँव तुम्हारे साथ चलने की खाते हैं क़सम
वे ही तुम्हें ठुकराते
जो हाथ तुम्हारा हाथ थामते
वे ही गला दबाते
फिर भी ओ नारी
अनन्त विसंगतियों-विकृतियों के बीच
पत्थर पर उगती—
दूब-सी उगती रही हो तुम!