भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओ लला नन्द के तू खबर ले हमारी भला / बिन्दु जी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ लला नन्द के तू खबर ले हमारी भला।
ओ मुरारी तिहारी है न्यारी कला॥ ओ लला...
दोनों का स्वामी है अन्तर्यामी है।
आ जा आ जा ओ गुकुल बसइया मेरे॥
आ जा बाँकेबिहारी कन्हैया मेरे।
फिर तो एक बार नज़र मेहर की चला॥ ओ लला...
मदनमोहन मुझे आरत दुखी फरियाद करते हैं।
तेरे ही पै अपने दुःख ही सो फरियाद करते हैं॥
सगा कोई नहीं अपना न कोई अपना प्यारा है।
तेरे भक्तों को तेरे नाम का केवल सहारा है।
दोनों के दृग ‘बिन्दु’ का तुझ पर ही फैसला॥ ओ लला...