भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

औघड़ की काली कमली ओढ़ / अमित कल्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी
औघड़ की
काली कमली ओढ़
अपनी ही देह में
अंतरध्यान हो

पल- पल
कैसा सहारा देती है

मौन
के उस
सुरमई
संतुलन को
करवट - करवट ।