भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कउन बैरिन सेजिया डँसावल / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कउन बैरिन सेजिया डँसावल,[1] दियरा[2] बरावल[3] हे।
अरे, कउन बैरिन भेजले दरदिया, करेजे मोरा सालय हो॥1॥
चेरिया बैरिन सेज डाँसल, दियरा बरायल हे।
ननद भइया भेजलन दरदिया, दरदे करेजे सालय हे॥2॥
अब नहीं पिया सँग सोयबो, न बबुआ खेलायब हे।
ललना, अब नहीं नयना मिलायब, दरद करेजे साले हे॥3॥
आधी राती गेल, पहर राती, होरिला जलम लेल हे।
ललना, बजे लागल अनन्द बधावा, महल उठे सोहर हे॥4॥
अब हम पिया सँघे जायब, नयन जुड़ायब हे।
ललना, अब हम बबुआ खेलायब, अब हम सहब[4] दुख हे॥5॥
होयते जे बबुआ के बिआह, अउर जग मूड़न[5] हे।
ललना, होयत बबुआ के कनछेदन[6] ननद न बोलायब हे॥6॥
होयते बबुआ केरा बिआह, आउर जग-मूड़न हे।
ललना, होयत बबुआ के कनछेदन, अपने से आयम हे॥7॥

शब्दार्थ
  1. बिछाया
  2. दीपक
  3. जलाया
  4. सहन करूँगी
  5. मुण्डन संस्कार
  6. कर्णभेद संस्कार