भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कट्यो रूंख / मोहन पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हैं देखूं हूं
जंगळ मांय
रूंख रोवता थका
आपणा-आपणा भोजन री
खोज में अपघात
कर रैया है,
घास-दोबड़ी रा आंगणां नैं
अंगरेजी बूंल्या चर रैया है...
अर ऊब रैया है सूरज
पवन सूं बातां करतां-करतां
...अर पसार दी है सड़क
आपणी टांग्यां
‘चतुर्भुज कॉरिडोर’ में
जिण पे आवण वाळा टैम में
मिनखां री लासां...
कारां चलावैगी।