भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कड़वी सच्चाई/ रविशंकर पाण्डेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कड़वी सच्चाई

नहीं फूटते
कुशल क्षेम के
अब अपनों से
आखर ढाई!

चला कहाँ से
और कहाँ पर
आ पहुँचा है आज जमाना,
अब तो प्रायः
खुद से खुद का
पड़े पूँछना पता ठिकानाय
कभी अपरचित
लगने लगती
अपनी ही ड्योढ़ी अँगनाई!

जेब गरम
होने पर होती
रिश्ते नातों में गरमाहट,
शायद यह
खुदगर्ज समय के
आने की
लगती है आहतय
हमने देखा
ऐन वक्त पर
साथ छोड़ देती परर्छाइं!

करने बैठें
यदि हम अपने
जीवनभर का लेखा जोखा,
गैरों से ज्यादा
अपनों से
खाया होगा हमने धोखाय
आपस के
मीठे रिश्तों की
अब यह है कड़वी सच्चाई!