भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कति भरौं पाना / ललिजन रावल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पीडाहरू पोखी सधैं कति भरौं पाना
आँखाबाट बगाउँदै मोतीका यी दाना

बर्षा याममा फेरि पनि पानी चुहिरह्यो
कैले टालिएलान् कठै चुहिएका छाना

सपनीमा-विपनीमा बोकी हिंडेको छु
गाँस, बास, कपासका चाह साना‍-साना

हत्या-हिंसा घरमा पसी सिन्दूर खोसेपछि
बिचल्ली भो टार्नलाई दुई छाकको माना

सधैं नयाँ नाना माग्ने नानी रुँदै भन्छे
बाबा! आँखा खोली देऊ चाहिंदैन नाना

भयरहित भैसके कि! गाउँहरू सबै
सदरमुकाम सरी सके गाउँका सबै थाना