भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कब तक सहें / राधेश्याम बन्धु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यातना यह
और हम कब तक सहें ?

चतुर्दिक व्याप्त
गीदड़ -भेड़िए
मांस के भुक्खड़
ठसाठस भर चुके नुक्कड़
बंद दरवाजे
हमारी खिड़कियाँ
कब तक रहें ?

तोड़ते दम
सूर्य -पथ पर
रोज ही एहसास
गुमसुम मौन है आकाश
उफ़ !सहमती
इस हवा के साथ
हम कब तक बहें ?

बंधु मेरे ! यातना यह
और हम कब तक सहें ?