भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कभी मायूस मत होना किसी बीमार के आगे / मदन मोहन दानिश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी मायूस मत होना किसी बीमार के आगे ।
भला लाचार क्या होना किसी लाचार के आगे ।

मुहब्बत करने वाले जाने क्या तरक़ीब करते हैं,
वगरना लोग तो बुझ जाते हैं इनकार के आगे ।

बिकाऊ कर दिया दुनिया ने जिसको होशियारी से,
बिछी जाती है ये दुनिया उसी बाज़ार के आगे ।

तुम्हे मौजें बताएँगी किसी दिन राज़ दरया का,
कई मझधार होते हैं वहाँ मझधार के आगे ।

किसी ठहरे हुए लम्हे की क़ीमत वक़्त से पूछो,
उसी से टूट कर लम्हा रहा रफ़्तार के आगे ।