भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

कभी हाँ कुछ, मेरे भी शेर पैकर में रहते हैं / 'अना' क़ासमी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी हाँ कुछ, मेरे भी शेर पैकर[1] में रहते हैं
वही जो रंग, तितली के सुनहरे पर में रहते हैं ।

निकल पड़ते हैं जब बाहर, तो कितना ख़ौफ़ लगता है,
वही कीड़े, जो अक्सर आदमी के सर में रहते हैं ।

यही तो एक दुनिया है, ख़्यालों की या ख़्वाबों की,
हैं जितने भी ग़ज़ल वाले, इसी चक्कर में रहते हैं ।

जिधर देखो वहीं नफ़रत के आसेबाँ[2] का साया है,
मुहब्बत के फ़रिश्ते अब कहाँ किस घर में रहते हैं ।

वो जिस दम भर के उसने आह, मुझको थामना चाहा,
यक़ीं उस दम हुआ, के दिल भी कुछ पत्थर में रहते हैं ।

शब्दार्थ
  1. साचाँ
  2. भूत