भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कमाल की औरतें ३६ / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो हर रात
कागज़ की एक नाव बनाती है
और रखती है
बिस्तर पर

वो कौन सी नदी है
जिसमें डूबने से डरती है
और बचने के लिए
लेती है सहारा
उस कागज़ की नाव का

अबूझ रातें होती हैं
डूब कर खोने का डर होता है
और बचा पाने की
कोशिश...इतनी सी।