भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कमाल की औरतें ३६ / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो हर रात
कागज़ की एक नाव बनाती है
और रखती है
बिस्तर पर

वो कौन सी नदी है
जिसमें डूबने से डरती है
और बचने के लिए
लेती है सहारा
उस कागज़ की नाव का

अबूझ रातें होती हैं
डूब कर खोने का डर होता है
और बचा पाने की
कोशिश...इतनी सी।