भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कमाल की औरतें ३९ / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लड़कियां पक के तैयार हैं अब काट दो
लड़कियां अकेली मिलें तो बांट लो

अबकी बो लो लड़कियों के बीज
धरती-धरती को लेकर सो जायेगी
जमीं बंजर हो जायेगी

छोटी सी पायल में खनकेगा ƒघर का आंगन
शीशे में चिपकी बिंदी आग सी दहकेगी

तुम हाथ सेंकना।