भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

करमा गीत-6 / छत्तीसगढ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

रांधत देखेंव मोगरी मछरी
परसत देखेंव भोंगा सागे।
अइसन सुआरी बर
बड़ गुस्सा लागे।
भारतें तुतारी दुई चारें।
माहिरा तुतारी दुई चारें।
चलि देबों मइके हमारे।
मसके देइ मइके तुम्हारे।
कर लेब दूसर बिहांव।
कर लेइहा दूसर बिहाव
हमर सूरत कहां पइहा।
अइसन सुधरई का करबो।
चिटको तो चाल कहर नइहे।