भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कर्ण-छठोॅ सर्ग / रामधारी सिंह ‘काव्यतीर्थ’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दोहा.

तोरोॅ बात व्यर्थ नै, जावेॅ देभौं माय
अर्जुन केॅ छोड़भौं नै, देभौं चार बचाय ।

दूनों में सें कोय एक, मरभौं जानोॅ माय
तोरा पाँच के पाँच ही, बेटा रहतौं माय ।

ऐसनों बात सुनी केॅ, कुंती गले लगाय
गला रुंधी गेलै ही, आँसू धार बहाय ।

संभली केॅ वू बोलै, टलै नै विधि विधान
तोरोॅ कल्याण चाहौं, चार के अभय दान ।

यै तरह सेॅ कर्णों केॅ, देलकै शुभाषीश
कुंती वापसे ऐलै, कर्ण नवावै शीश ।