भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कर जोर खड़ी गिरिजा ढिग राज दुलारी / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कर जोर खड़ी गिरिजा ढिंग राज दुलारी,
जगदंबे अंबे हिय की तुम जानन हारी।
कीन्हों न प्रगट तेइसें कारण बखान के,
कर देहू सफल सेवा, अब मातु हमारी।
कर जोर...
कह सके न शेष शारद महिमा अपार है,
बड़अगु पतिव्रत में जगलोक तुम्हारी।।
कर जोर...
कंचन कुंअरि सप्रेम विनय भाल कंठ से,
दीन्हीं असीस सिय को हंस शैल कुमारी।।
कर जोर...