भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कलावंती / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊभी है
बूढी खेजड़ी
धुर रिंघरोही में
मिटा डांगरां री भूख
बिना लूंग
जाणै ऊभी है
कोई कलावंती
हाथां में लियां
रावणहत्थो
सुरंगी राग उथलण

बादळ राजा!
पाणी दे
पाणी दे जिनगाणी दे!!