भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कला के पारखी / रंजना जायसवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उनके ड्राइंग रूम में सजे हैं
पुष्ट, अधखुले अंगों वाली
खुले में नहाती
करतब दिखातीं
बच्चे को बिना आँचल से ढँके
दूध पिलाती
गरीब-बदहाल
आदिवासी युवतियों के
बेशकीमती तैलचित्र
वे कला के सच्चे पारखी हैं