भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कल गए थे तुम जिसे बीमार-ए-हिज्राँ / 'ज़ौक़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कल गए थे तुम जिसे बीमार-ए-हिज्राँ छोड़ कर
चल बसा वो आज सब हस्ती का सामाँ छोड़ कर

तिफ़्ल-ए-अश्क ऐसा गिरा दामान-ए-मिज़गाँ छोड़ कर
फिर न उट्ठा कूचा-ए-चाक-ए-गिरेबाँ छोड़ कर

क्यूँके निकले तेरा उस का दिल में पैकाँ छोड़ कर
जाए बैज़े को कहाँ ये मुर्ग़-ए-पर्रां छोड़ कर

जिस ने हो लज़्ज़त उठाई ज़ख़्म तेग़-ए-इश्क़ की
कब वो मरहम-दान को ढूँढे नमक-दाँ छोड़ कर

सैद-ए-दिल को क्यूँके छोड़े जब के दिखला दे न तू
मछलियाँ दस्त-ए-हिनाई में मेरी जाँ छोड़ कर

सर्द-मेहरी से किसी की आगे ही जी सर्द है
याँ से हट जा धूप ऐ अब्र-ए-ख़िरामाँ छोड़ कर

देखिये क्या हो के है अब जान के पीछे पड़ी
दिल को ऐ काफ़िर तेरी ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ छोड़ कर

ऐ दिल उस के तीर के हम-राह सीने से निकल
वरना पछताएगा तू ये साथ नादाँ छोड़ कर

क्यूँ न रम कर जाएँ आहू ऐसे वहशी से तेरे
शेर भागें जिस के नालों से नीस्ताँ छोड़ कर

सुर्ख़ी-ए-पाँ देख ले ज़ाहिद जो दंदाँ पर तेरे
उठ खड़ा हो हाथ से तस्बीह-ए-मरजाँ छोड़ कर

पेश-ख़ेमा ले के निकला गर्द-बाद-ए-दूर-रौ
है जो सरगर्म-ए-सफ़र तन को मेरी जाँ छोड़ कर

गर ख़ुदा देवे क़नाअत माह-ए-दो-हफ़्ता की तरह
दौड़े सारी को कभी आधी न इन्साँ छोड़ कर

साग़र-ए-दिल बेचता आया हूँ खो मत हाथ से
चूकता है क्यूँ ये जिंस-ए-दस्त-गर्दां छोड़ कर

काम ये तेरा ही था रहमत हो ऐ अब्र-ए-करम
वर्ना जाए दाग़-ए-इस्याँ मेरा दामाँ छोड़ कर

पढ़ ग़ज़ल ऐ 'ज़ौक़' कोई गर्म सी अब तो न जा
जानिब-ए-मज़मून तर्ज़-ए-तुफ़्ता-जानाँ छोड़ कर