भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कविता-दोय / विनोद स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक तिरस्यो मिनख
ठंडां री दुकान करै।

एक भूखो मिनख
जळेबी बेचै।

एक घरबायरो आदमी
हेली चिणै।

आ तो कोई अचंभावाळी बात कोनी

पण
एक चापलूस मिनख
कविता लिखै!