भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कस्तूरी / प्रणय प्रियंवद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ढूंढता हूं तुम्हें
हवा में
जल में रोशनी की चांद में
तुम्हें ढूंढता हूं
रातरानी और रजनीगंधा की गंध में
रंगों में
अभी-अभी उगी पत्तियों में
खिड़कियों से पूछता हूं
किताबों से पूछता हूं
तुम्हारे बारे में
और फिर
महसूसता हूं अपने भीतर तुम्हें
अपनी सांसों में
धमनियों में
आंसुओं की हर बूंद में
तुम होती हो मेरे साथ
डरता हूं
मेरी नाभि न ले जाए कोई चुराकर…