भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहीं पर सुब्ह रखता हूँ कहीं पर शाम रखता हूँ / अबरार अहमद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहीं पर सुब्ह रखता हूँ कहीं पर शाम रखता हूँ
फिर इस बे-रब्त से ख़ाके में ख़ुद से काम रखता हूँ

सलीक़े से मैं उस की गुफ़्तुगू का लुत्फ़ लेता हूँ
और उस के रू-ब-रू दिल में ख़याल-ए-ख़ाम रखता हूँ

ब-ज़ाहिर मद्ह से उस की कभी थकता नहीं लेकिन
दरून-ए-ख़ाना-ए-दिल ख़्वाहिश-दुश्नाम रखता हूँ

ख़ुश आई है अभी तो क़ैद-ए-ख़्वाहिश इस ख़राबे में
अभी ख़ुद को रहीन-ए-गर्दिश-ए-अय्याम रखता हूँ

सफ़र की सुब्ह में रँज-ए-सफ़र की धूल उड़ती है
हद-ए-आग़ाज़ में अन्देशा-ए-अँजाम रखता हूँ

फ़िराक़ ओ वस्ल से हट कर कोई रिश्ता हमारा है
कि उस को छोड़ पाता हूँ न उस को थाम रखता हूँ

दलील-ए-ख़्वाब-ए-मस्ती है तिरी आमादगी इम्शब
मगर इस शब में तुझ से और कोई काम रखता हूँ

तजावुज़ से भला कब तक गुज़र औक़ात मुमकिन थी
सो अपने ख़ून तक शोर-ए-दिल-ए-बदनाम रखता हूँ