भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहीं से काश तुम आवाज़ देते / मदन मोहन दानिश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहीं से काश तुम आवाज़ देते ।
ग़मों को हम कोई तो साज़ देते ।

तमन्ना ये भी दिल में है, तुम्हे हम,
तुम्हारे नाम से आवाज़ देते ।

बिखरना तय है फिर भी मुस्कराना,
गुलों को और क्या अंदाज़ देते ।

बहुत तौहीन होती आँसुओं की,
सदाओं को अगर अल्फाज़ देते ।