भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क़तरा-क़तरा बिखर गए बादल / विनय कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क़तरा-क़तरा बिखर गए बादल।
दरिया-दरिया संवर गए बादल।

खो न जाएँ कहीं ख्लाओं में
आँधियों में उधर गए बादल।

जी उठेंगे उन्हीं ज़मीनों में
जिन ज़मीनों पे मर गए बादल।

गर्म मौसम के मर्तबानों में
मां के हाथो सुतर गए बादल।

मेरे अश्कों को जायका लेना
घर तुम्हारे अगर गए बादल।

इससे पहले कि दिल की बात कहें
मेरी हद से गुज़र गए बादल।