भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क़त्ल करना तुम्हारी फितरत है / विष्णु सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क़त्ल करना तुम्हारी फितरत है।
माफ़ करना हमारी आदत है।

सबका मैं अहतराम करता हूँ,
मेरे घर हर तरह से बरकत है।

अब नहीं बुतघरों से कुछ मतलब,
इश्क़ ही अब मेरी इबादत है।

प्यार से उसने मुझको देखा था,
आज तक रूह में हरारत है।

साथ मैं अपनी माँ के रहता हूँ
मेरे घर में ही मेरी जन्नत है।

एक दरिया मिले समंदर से
ये सियासत है या मुहब्बत है।

मैं चिरागों के साथ जलता हूँ,
क्या कहूँ अब ये मेरी किस्मत है।