भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क़िस्सो खारे वरी ठाहिण आया / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क़िस्सो खारे वरी ठाहिण आया।
दोस्ती दोस्त निबाहिण आया॥

ओपिरनि दूर खां धमकायो पिए।
उहे पंहिंजा हा, जे काहिण आया॥

बे-अझे दिल खे ॾिसी इल्लती ख़ौफ़।
ॿाड़ पंहिंजी हिते लाहिण आया॥

ठाह जी राह जी विया बन्द करे।
जे हुआ ॻाल्हि खे ठाहिण आया॥

कूड़े आथत मां छा मिलिणो हो, पर।
दोस्त हा, रस्म निबाहिण आया॥