भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क़ैद इतने बरस रहा है ख़ून / सूर्यभानु गुप्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क़ैद इतने बरस रहा है ख़ून
छूटने को तरस रहा है ख़ून

गाँव में एक भी नहीं ओझा
और लोगों को डस रहा है ख़ून

सौ दुखों का सितार हर चेहरा
तार पर तार कस रहा है ख़ून

छतरियाँ तान लें जो पानी हो
आसमाँ से बरस रहा है ख़ून

प्यास से मर रही है ये दुनिया
और पीने को, बस, रहा है ख़ून