भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कांगडा युद्ध / मौलाराम तोमर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


कांगडा युद्ध
( सं. १८६६-६७ तिर)

लड्यो काँगडा शत्रु सिहार्यो-

रुद्रवीर तब चौतारा दीने सिघ्र पठाय ।
दलभंजन काजी सहित चले काँगडा धाय ।।

X X X

गई खबर न्पाल वह, कांतीपुर दरबार ।
नैनसिह काजी गिर्योल, करी खूब तरबार ।।

X X X

रुद्रबीर चौतारिया आये ।
वरभंजन संगमा ही पठाये ।।

लियो कांगडा तिनहुँ घिराई ।
चहूँ तरफ फौज ति पिलाई ।।

फिरै तिलंगा चहुँचरफ, आठों जाम अथाह ।
देखि पंखि संसारकौ, भयो महाभय त्रास ।।
         (“गीर्वाणयुद्धप्रकाश“ बाट उद्धृतांश )
                     ‘ वीरकालीन कविता‘ बाट साभार