भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कांदा / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मक्के की रोटी
हम दोनों ने खाई
मैंने कांदे से
मक्केक की रोटी खाई
तुमने घी में तली
मक्के की रोटी
सरसों के साग के साथ
शौक से खाई
वही कांदा
जो तुम्हारे लिए
सलाद का प्याज था
मेरे लिए
साग भी है
सब्जी भी
चिकन
मटन
मटर पनीर और
सब कुछ
वो भी
जिनका नाम नामालूम
वो मेरा कांदा ही है
तुम नहीं खा सकोगे
सूखी रोटी इसके साथ
तुम्हारा मुँह बसाने लगेगा