भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कामी भजे शरीर को / त्रिलोक सिंह ठकुरेला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कामी भजे शरीर को , लोभी भजता दाम।
पर उसका कल्याण है, जो भज लेता राम॥
जो भज लेता राम, दोष निज मन के हरता।
सुबह शाम अविराम, काम परहित के करता।
'ठकुरेला' कविराय, बनें सच के अनुगामी।
सच का बेड़ा पार, तरे अति लोभी, कामी॥