भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कायागढ़ महलिया के अद्भुत शहरिया / इन्द्रमती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कायागढ़ महलिया के अद्भुत शहरिया, अद्भुत शहरिया,
जहाँ से बरसे, झीरी झीरी लाल मोतिया॥टेक॥
त्रिकुटी महलिया से देखलौं हे सखिया, देखलौं हे सखिया,
जहाँ रे झलके, गगन के हे अटरिया॥1॥
गगन अटरिया के लागल रसरिया, लागल रसरिया,
जहाँ रे झलके, बलमुआ के घर के पतली हे डगरिया॥2॥
सोलह कमल दल के ऊपर हे सखिया, ऊपर हे सखिया,
जहाँ रे बसे, पिया अलख रूपिया, पिया अलख रूपिया॥3॥
गुप्त कोठरिया में सत के सेजरिया, सत के सेजरिया,
जहाँ रे सूतल पियवा, ओढ़ि के हे चदरिया॥4॥
इन्द्रमती रानी गायली झूमरिया, गायली झूमरिया,
जहाँ से लागी हे गलै गुरु से हे सनेहिया॥5॥