भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कारा खेत मऽ समदन खऽ पटको / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कारा खेत मऽ समदन खऽ पटको, लश्कर केत्ताक दूर।
ते रहियो साजन मन्दो बारो रे
हरी-हरी चोच को हरो-हरो मुरगा
पानी पेनऽ (पिवन) खऽ नद्दी नरबदा।।