भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काला डर / प्रताप सहगल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दरवाज़े पर होती है दस्तक
काँप उठता है
जिस्म का पात-पात
बड़ी मुश्किल से
गुज़रती है रात।