भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कालीबंगा: कुछ चित्र-11 / ओम पुरोहित ‘कागद’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काली नहीं थी
कोई बंग
वस्त्र भी नहीं थे
मिट्टी सने जीवाश्म
जो तलाशे हैं आज

बोरंग चूनरी
केसरिया कसूम्बल में
सजी सुहागिनें
खनकाती होंगी
सुहाग पाटले
लाल-पीले-केसरिया

वक़्त के विषधर ने
डाह में डसा होगा
तब ही तो उतरा है
रंग बंग पर काला

कालीबंगा करता
सोनल अतीत को।


राजस्थानी से अनुवाद : मदन गोपाल लढ़ा