भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कालीबंगा: कुछ चित्र-6 / ओम पुरोहित ‘कागद’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इतने ऊँचे आले में
कौन रखता है पत्थर
घड़कर गोल-गोल

सार भी क्या था
सार था
घरधणी के संग
मरण में।

ये अंडे हैं
आलणे में रखे हुए
जिनसे
नहीं निकल सके
बच्चे

कैसे बचते पंखेरू
जब मनुष्य ही
नहीं बचे।


राजस्थानी से अनुवाद : मदन गोपाल लढ़ा