भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काळ तरसै / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पताळ तांईं
सोध पाणी
पाळै पत्ता
परोसै लूंग
सांचरै प्राण
थार में
जूनी खेजड़ी।

खेजड़ी तळै
इमरत कुंड
काळ रा हाथ
ओछा जाबक

इमरत सरसै
काळ तरसै।