भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

का लै जैबौ, ससुर घर ऐबौ / कबीर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

का लै जैबौ, ससुर घर ऐबौ॥टेक॥
गाँव के लोग जब पूछन लगिहैं, तब तुम क रे बतैबी॥1॥
खोल घुँघट जब देखन लगिहैं, तब बहुतै सरमैबौ॥2॥
कहत कबीर सुनो भाई साधो, फिर सासर नहिं पैबौ॥3॥