भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

किंकिनी के शब्द मुझे घायल सी करत आज नुपूर आवाज मेरो बरबस मन लेता है / महेन्द्र मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 किंकिनी के शब्द मुझे घायल सी करत आज नुपूर आवाज मेरो बरबस मन लेता है।
सिया सुकुमारी मन मोहेली हमारी मदन पंच बान मारी हमें बिकल कर देता है।
देश-देश के नरेश आये हैं सभा के बीच आज तो विधाता देखें किसको विजय देता है।
द्विज महेन्द्र लखन लाल सगुन बताओ हमें जानकी का माला आज किसके गले होता है।