भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कितने आसान सबके सफर हो गए / विजय वाते

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कितने आसान सबके सफर हो गए ।
रेत पर नाम लिख कर अमर हो गए ।

ये जो कुर्सी मिली, क्‍या करिश्‍मा हुआ ।
अब तो दुश्‍मन भी लख्‍तेजिगर हो गए ।

सॉंप-सीढी का ये खेल भी खूब है ।
वो जो नब्‍बे थे, बिल्‍कुल सिफर हो गए ।

एक लानत, मलामत मुसीबत बला ।
तेग लकडी की थी, सौ गदर हो गए ।

सबके चेहरे पर इक सनसनी की खबर ।
जैसे अखबार वैसे शहर हो गए ।

ये शिकायत जहाजों की है आजकल ।
उथले तालाब भी अब बहर हो गए