भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कितने नायाब थे लम्हे जो वहाँ पर गुज़रे / बेगम रज़िया हलीम जंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कितने नायाब थे लम्हे जो वहाँ पर गुज़रे
जब उठे हाथ दुआओं को तो गौहर बरसे

तक रहे थे तेरे घर को वो समाँ भी क्या था
तू गुज़रता है हवा आई तो हम ये समझे

कितनी ही बार किया हम ने तो ज़मज़म से वज़ू
कितनी ही बार तेरी याद में आँसू छलके

सुर्मा-ए-ख़ाक-ए-मदीना जो लगा आँखों में
मिस्ल आईने के आँखों के नगीने चमके