भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किताब मेरी / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात हो गई, तू भी सो जा
मेरे साथ, किताब मेरी!
सपनों की दुनिया में खो जा
मेरे साथ, किताब मेरी!

बिछा दिया है बिस्तर तेरा
बस्ते के अंदर, देखो!
लगा दिया है कलर-बॉक्स का
तकिया भी सुंदर, देखो!
मुँह फुल्ली, अब तो खुश हो जा
मेरे साथ, किताब मेरी!

तुझे पता है, सुबह-सुबह
फिर जगना है हम दोनों को।
भागम-भागी में स्कूल
निकलना है हम दोनों को।
फड़-फड़ न कर, अब चुप हो जा
मेरे साथ, किताब मेरी!