भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किवाड़ / अब्बास कियारोस्तमी / यादवेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज मैं दिन भर
घर में रहूँगा
और
किसी के लिए
खोलूँगा नहीं
किवाड़

पर
मेरे मन के द्वार
खुले हुए हैं
पूरे के पूरे
दोस्तों के लिए

जो मुझसे
तीखी बहस में
उलझते हैं हमेशा

और अड़ियल
परिचितों के लिए भी ...

अँग्रेज़ी से अनुवाद : यादवेन्द्र