भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किसी का ध्यान मह-ए-नीम-माह / अहमद 'जावेद'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी का ध्यान मह-ए-नीम-माह में आया
सफ़र की रात थी और ख़्वाब राह में आया

तुलू-ए-साअत-ए-शब-ख़ूँ है और मेरा दिल
किसी सितारा-ए-बद की निगाह में आया

मह ओ सितारा से दिल की तरफ़ चला वो जवाँ
अदू की क़ैद से अपनी सिपाह में आया

जिहाद-ए-ग़म में कोई सुस्त ज़र्ब मेरी तरह
गिरफ़्त-ए-मैसर-ए-अश्क-ओ-आह में आया

सितारे डूब गए और वो सितारा-गर
थकन से चूर ज़मीं की पनाह में आया

चराग़ है मेरी रातों का एक ख़्वाब-ए-विसाल
जो कोई पल तेरी चश्म-ए-सियाह में आया

दुखी दिलों की सलामी क़ुबूल करते हुए
नज़र झुकाए कोई ख़ानक़ाह में आया