भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किसी की आँख में डोरे, किसी के आँख आती क्यों / शिवशंकर मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी की आँख में डोरे, किसी के आँख आती क्यों
बिला मतलब तुम्हें पीड़ा यही दिन-रात खाती क्यों

हमारा देश है आजाद, हम आजाद हैं सारे
गला घुटता हमारा क्यों, जबाँ बाहर को आती क्यों

शहर में रोज होते खून हैं दस-बीस की दर से
अदालत दस बरस में एक को फाँसी सुनाती क्यों

जरा-सा डर था कोई, हो गया इतना बड़ा कैसे
अब अपने पाँव चलकर मौत भी आते लजाती क्यों

वही सोचो, वही बोलो, वही सब करना है तुम को
जरा-से फर्क पर दुनिया हमें काफिर बताती क्यों

गला भारी है, भारी चेहरा, भारी बदन उन का
उठाती बोझ क्यो इतना, न कुर्सी टूट जाती क्यों

उरेबी चाल है जिस की, चलन जिसका है फिरकाना
कि ऐसी शख्सियत ‘मिशरा’ वतन में सर उठाती क्यों