भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किसी को भूलना / येहूदा आमिखाई / विनोद दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी को भूलना
पीछे अहाते की लाइट को बुझाना
भूल जाना है

फिर अगले दिन भर
बत्ती
जलती रहती है

लेकिन
यही रोशनी है
जो याद दिलाती रहती है

अँग्रेज़ी से अनुवाद  : विनोद दास