भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किस को मन के घाव दिखायें हाल सुनायें जी के / सूर्यभानु गुप्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किस को मन के घाव दिखायें हाल सुनायें जी के
इन्सानों से ज़ियादा अच्छे पत्थर किसी नदी के

सारी उम्र छुड़ाते गुज़रे महाजनों से - चेहरे
बँधुआ मज़दूरों से अब तो जीवन हुये सभी के

हर काँधे पर अनगिन चेहरे गिनती क्या एक दो की
रावण से भी ज़ियादा चेहरे इस आधुनिक सदी के

हैज़ा, टी. बी.,चेचक से मरती थी पहले दुनिया
मन्दिर, मसजिद, नेता, कुरसी हैं ये रोग अभी के

भूली-बिसरी यादों के ओ जोगी आते रहियो
जी हल्का कर जाते तेरे फेरे कभी-कभी के