भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किस पे खंजर है चलाना मुझको / आशीष जोग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


किस पे खंजर है चलाना मुझको,
ख़ुद से ख़ुद को है बचाना मुझको |

याद कर कर के जी रहे थे जिसे.
आज उसको है भुलाना मुझको |

जितने रिश्ते हैं उतनी ही रस्में,
क्या सभी को है निभाना मुझको |

कितनी उम्मीद ले के बैठा हूँ,
कोई ठोकर न लगाना मुझको |

उनसे तार्रुफ़ तो करा दो मेरा,
अजनबी कह के मिलाना मुझको |

मुझको लगते सभी हैं दीवाने,
सब क्यूँ कहते हैं दिवाना मुझको |