भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ तो है कुछ तो है हौसला कुछ तो है / सतपाल 'ख़याल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
कुछ तो है कुछ तो है हौसला कुछ तो है
अपने दिल में अभी तक बचा कुछ तो है.

मैकदों मस्जिदों में नहीं मिल रहा
वो सुकूँ या ख़ुशी या नशा कुछ तो है.

दिल के जो पास था जिस से उम्मीद थी
अब वही दिलनशीं दे दग़ा कुछ तो है.

कोंपलों से भरी झील है उस तरफ़
उस तरफ़ दूर तक नूर-सा कुछ तो है.