भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ दूर तक तो साथ कज़ा ले गई मुझे / सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ दूर तक तो साथ कज़ा ले गई मुझे ।
फिर माँ की दुआ आके बचा ले गई मुझे ।

बरसा था मुझपे इस तरह भी नूर-ए-इलाही,
बारिश की एक बूँद बहा ले गई मुझे ।

ऐसा भी मोड़ आया इबादत में इश्क़ की,
दर तक ख़ुदा के मेरी रज़ा ले गई मुझे ।

बरसूँ मैं इससे पहले कि अश्क़ों की शक़्ल में,
सूरज की कड़ी धूप सुखा ले गई मुझे ।

जब भी कहीं पे तेरा तसव्वुर किया गया,
ख़ुशबु वहाँ बना के हवा ले गई मुझे ।

बच्चे की तरह रो रहा था राह में खड़ा,
उँगली पकड़ के किस की दुआ ले गई मुझे ।

जब-जब भी परेशाँ हुआ तब-तब कोई ग़ज़ल,
दुश्वारियों के दर से उठा ले गई मुझे ।