भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ नया करने की ख़्वाहिश में पुराने हो गए / फ़सीह अकमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ नया करने की ख़्वाहिश में पुराने हो गए
बाल चाँदी हो गए बच्चे सयाने हो गए

ज़िंदगी हँसने लगी परछाइयों के शहर में
चाँद क्या उभरा कि सब मंज़र सुहाने हो गए

रेत पर तो टूट कर बरसे मगर बस्ती पे कम
इस नई रूत में तो बादल भी दिवाने हो गए

बादलों को देख कर वो याद करता है मुझे
इस कहानी को सुने कितने ज़माने हो गए

जोड़ता रहता हूँ अक्सर एक क़िस्से के वरक़
जिस के सब किरदार लोगो बे-ठिकाने हो गए

‘मीर’ का दीवान आँखें जिस्म ‘क़ाएम’ की ग़ज़ल
जाने किस के नाम मेरे सब ख़ज़ाने हो गए

रेत पर इक ना-मुकम्मल नक़्श था क़ुर्बत का ख़्वाब
फ़ासला बढ़ने के ‘अक्मल’ सौ बहाने हो गए